Please wait....
Yogendra Sharma
मोदी के रहते क्या किसी की जुर्रत हो सकती ?
जम्मू-कश्मीर में पीडीपी-भाजपा गठबंधन की सरकार बनाने के तुरंत बाद जिस प्रकार से जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री मुफ्ती मेाहम्मद सईद ने बयान दिए हैं वे चौंकाने वाले कतई नहीं कहे जा सकते। क्योंकि मुफ्ती मोहम्मद सईद वो शख्स है जिसके बारे में कहा जाता है कि पाकिस्तान के इशारे पर उन्होंने भारत की जेलों में बंद खूंखार आतंकवादियों को छुड़वाने के लिए अपनी ही बेटी रुबिया का अपहरण करवा लिया था, उस वक्त वे केन्द्र सरकार के गृहमंत्री थे। ऐसे शख्स के मुंह से यदि पाकिस्तान और हुर्रियत जैसे अलगाववादी तत्वों के हित में कोई बात उगलती है तो आश्चर्य कैसा? क्या कौअे के मुंह से कोयल की बोली की अपेक्षा करना मुर्खता नहीं है? क्या भाजपा नहीं जानती कि मुफ्ती सईद किस तरह का व्यक्ति है? हमारा उद्देश्य यह नहीं है कि मुफ्ती मोहम्मद सईद जैसा व्यक्ति कुछ भी बोलता रहे तो उस पर हमें ध्यान देने की आवश्यकता नहीं, हमारा उद्देश्य यह है कि जब भाजपा ने पीडीपी से गठबंधन कर ही लिया है तो उसे ऐसा वातावरण तैयार करना होगा, ऐसा दबाव बनाए रखना होगा कि गठबंधन में शामिल पार्टी का कोई भी व्यक्ति ऐसा कोई बयान नहीं दे सके जो जम्मू-कश्मीर में अलगाव को बढ़ावा दे।

फिर भी यदि मुफ्ती जैसे लोग अपनी हरकतों से बाज नहीं आएं तो जम्मू-कश्मीर में ऐसे लोगों या ऐसी पार्टी के साथ गठबंधन जारी रखना कोई जरूरी नहीं है। श्री नगर की सरकार भंग हो जाए, तो हो जाए किन्तु ऐसा कत्तई नहीं होना चाहिए कि हुर्रियत पृष्ठभूमि वाले पीडीपी के कई विधायक ऐसा वातावरण तैयार करने में सफल हो जाए जिससे कश्मीर को पाकिस्तान के हवाले करने की दिशा में किसी भी प्रकार की कोई कोशिश हो।

मुफ्ती की बयानबाजी पर एक सवाल उभरकर आता है कि यदि आज भाजपा विपक्ष में होती और मुफ्ती सईद पाकिस्तान और हुर्रियत के पक्ष में ऐसी बयानबाजी करते जो उन्होंने अभी मुख्यमंत्री बनते ही की है, तो क्या भाजपा संसद को ठप नहीं कर देती, देशभर में क्या हंगामा नहीं मचा देती?

एकबात और, सार्क यात्रा के तहत भारतीय विदेश सचिव जय शंकर पिछले दिनों इस्लामाबाद पहुँचे। जहां उन्होंने अपने पाकिस्तानी समकक्ष अजीज अहमद चौधरी से मुलाकात की और सीमा पर आतंकवाद पर चिंता जताकर कहा, इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इसके साथ ही पिछले अगस्त माह से रूकी हुई भारत-पाकिस्तान के बीच विदेश सचिव स्तर की वार्ता बहाल हो गई। जब पाक उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने भारत के एक सवाल के जवाब में कई बार कहा है कि पाकिस्तान हुर्रियत से बराबर सम्पर्क बनाए रखेगा। और इसी हुर्रियत के बहाने हमारी सरकार ने गत वर्ष अगस्त में भारत-पाकिस्तान के बीच विदेश सचिव स्तर की वार्ता स्थगित कर दी थी। तो यहां यह सवाल उठना स्वाभाविक है कि पाक की हुर्रियत के बारे में जब नीति नहीं बदली है तो ऐसी क्या आफत आ गई कि भारत ने इस रूकी हुई वार्ता को फिर से बहाल कर दिया? क्या इसका यह अर्थ लगाया जाए कि मुफ्ती मोहम्मद सईद से ज्यादा देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी स्वयं चाहते हैं कि पाकिस्तान से बातचीत शुुरु हो, और क्या इसी वजह से उन्होंने दक्षेस के बहाने विदेश सचिव जयशंकर को पाकिस्तान भेजा है? यदि यह सही है तो फिर गत अगस्त में वार्ता रोकने का नाटक करने की जरूरत क्या थी?

एक बात और, गत दिनों राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर हुई चर्चा के जवाब में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा, ''''लोकतंत्र में धमकियां नहीं चलतीं। न पहले किसी की चली हैं, न अब चल सकती हैं। आपातकाल से बड़ी धमकी इस देश के लिए क्या होगी...।''''

प्रधानमंत्री के इस जवाब से लगता है कि देश में अब एक निर्भीक सरकार है और उसी की पार्टी की सरकार कश्मीर में भी है। अभी हमारी फौजें भी वहीं है। तो फिर अफजल के शव के अवशेष उसके परिजन को सौंपने के संबंध में डर कैसा? भयंकर से भयंकर अपराधियों के शव उनके परिजनों के हवाले किए ही जाते हैं। यदि अफजल के परिजन उसके शव का अपने धार्मिक विधि-विधान से अंतिम संस्कार करना चाहें तो उन्हें क्यों नहीं करने देना चाहिए? इससे तो यह भी सिद्ध होगा कि मोदी सरकार वाकई दब्बू नहीं है और वह मानव अधिकारों और मानवीय संबंधों का सम्मान करती है। इसके अलावा अब तक के रवैये से क्या ऐसा नहीं लगता कि मोदी के रहते जम्मू-कश्मीर के हालात बिगाडऩे कोई जुर्रत नहीं कर सकता है।
Textile News
कुर्ता-पायजामा फैब्रिक्स में Sushain .......
अमृतसर/ टेक्सटाइल व्यवसाय में सुषेन सिल्क मिल्स उत्तर भारत में एक बड़े फैब्रिक उत्पादक के रूप में पहचान रखने वाली कम्पनी है। कम्पनी डायरेक्टर श्री विजय कु मार अरोड़ा के नेतृत्व में प्रगतिशील है। 

कम्पनी के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री अनिल कुमार अरोड़ा के कुशल मार्केटिंग प्रबन्धन एवं युवा मार्केटिंग हैड श्री सुषेन अरोड़ा की अग्रगामी सोच ने Sushain ब्राण्ड को राष्ट्र व्यापी पहचान दिला दी है।

 मुख्य रूप से कुर्ता-पायजामा फ ैब्रिक्स के बड़े उत्पादक के रूप में पहचान रखने वाली ये कंपनी सीजनल रेंज प्रस्तुत करती रहती है। इस समय कंपनी की समररेंज काफी पोपुलर है।

 ......
Rates
Textile e-paper
Business Directory
Trade Fair
25/06/2015 To 27/06/2015
24/09/2015 To 26/09/2015
Events
''विमल'' ने किया गुजरात के एजेण्ट एवं डीलर्स ....
अहमदाबाद/ निश्चित बिक्री लक्ष्यो को पूर्ण करने के उपलक्ष्य में ''विमल'' ने गत माह पंचतारक रेडिसन ब्ल्यूज होटल में एक सम्मान समारोह का आयोजन किया।

इस दौरान कम्पनी के प्रेसिडेण्ट श्री आनन्द पारेख और बिजनेस हेड श्री प्रतीक पाण्डे के सानिध्य में सूटिंग डिविजन के मार्केटिंग के उपाध्यक्ष श्री बी.वी. बक्शी, वस्र्टेड डिविजन के जनरल मैनेजर श्री पंकज झिंगन, शर्टिंग डिजिवन के जनरल मैनेजर श्री दीपक गिडवानी, पेण्ट पीस एण्ड कोम्बो डिविजन के जनरल मैनेजर श्री अनिल तोतला, सूटिंग डिविजन में वस्र्टेड सूटिंग के सेल्स मैनेजर श्री गौरांग दवे, विमल गिफ्टिंग के सीनियर सेल्स मैनेजर श्री देनिश कोटेचा, यूनिफॉर्म डिविजन के श्री प्रदीप शर्मा, श्री जयदीप वघेला, रिटेल के एवीपी श्री मनीष मनचंदा, सूटिंग के वेस्ट जोन के मैनेजर श्री नरेश भूमिया, साड़ी डिविजन के मैनेजर श्री मुरली भाटिया और शर्टिंग डिविजन के सीनियर मैनेजर श्री राजेश मैत्रे आदि उपस्थित थे।

कम्पनी के सदस्यों की गरिमामय उपस्थिति में गुजरात के एजेण्ट श्री राजेश लाल भाई एवं कई डीलर्स को आउटस्टेण्डिंग परफॉर्मेन्स सेल्स अवार्ड 2014-15 से सम्मानित किया गया। इस अवसर पर बताया गया कि वित्तीय वर्ष 2015-16 में वस्र्टेड सूटिंग को खूब नई रेंज के साथ पेश किया जाएगा। इस अवसर पर हंसमुख शैली में प्रेसिडेण्ट श्री आनन्द पारेख ने कहा ''''मुझे यह अवार्ड देते हुए अत्यंत हर्ष हो रहा है कि मेरी कम्पनी से जुड़े व्यापारी भाई एवं एजेण्ट अपनी प्रभावी कार्यशैली व सकारात्मक सोच के बलबूते हर बार निर्धारित बिक्री लक्ष्यों को पूरा करने में कामयाब होकर सदैव कम्पनी की सेल ग्रोथ बढ़ाने में अपनी भागीदारी का निर्वाह करने के लिये कटिबद्ध हैं। साथ ही ग्राहकों में उत्पादों की गुणवत्ता व विश्वसनीयता बरकरार रखे हुए हैं, जिसका परिणाम सामने है। भविष्य में भी इसी सहयोग की अपेक्षा रखता हँ,

जिससे कम्पनी निरन्तर टेक्सटाइल कारोबार में वृद्धि करती रहेगी। मैं हमारे एजेण्ट श्री राजेश लाल भाई की कार्य कुशलता का तहेदिल से शुक्रिया अदा करता हूँ। मैं इसी कम्पनी से 9 साल से जुड़ा हुआ हूँ और सातवीं बार इस अवार्ड द्वारा श्री राजेश लाल भाई को सम्मानित कर रहा हँ। इस समारोह में राजेश लाल भाई के पिता श्री लाल भाई देवचन्द्र भी उपस्थित रहे।

आउटस्टेण्डिंग परफॉर्मेन्स अवार्ड विजेताओं में श्री विनीत भाई (वीराज कॉरपोरेशन), श्री महेन्द्र भाई (मै. महेन्द्रकुमार सम्पतराज), श्री शैलेश भाई (मै. एस. महासुखलाल), श्री धीरज भाई (मै. अपेक्षा टेक्सटाइल), श्री बिपिन भाई (मै. मालव कॉर्पोरेशन), श्री मूलचन्द (मै. मूलचन्द मनमाल), श्री जयेश भाई (मै. ज्योति एण्टरप्राइज), श्री अनिल भाई (मै. अनिल कुमार लालजी भाई-भावनगर) एवं श्री बकुलभाई (मै. बिनीता टे्रडिंग कम्पनी-सूरत) शामिल थे। रिटेल में आउटस्टेण्डिंग परफॉर्मेन्स अवार्ड विजेता मै. अर्बदा एम्पोरियम- गांधी नगर, मै. ब्ल्यूज डिजाइन, मै. विमल टेक्सटोरियम एवं मैं शैलेष पैलेस शामिल रहे।
Articles
ऐसा क्यों होता है कि कई बार सब कुछ होते हुए भी हम वो नहीं कर पाते जिसको करने के बारे में हमने सोचा होता है ….दृढ निश्चय किय....
मैं कई बार ऐसे लोगों से मिल चुका हूँ जो मुझसे अपने dream business की शुरुआत करने की बात करते है , घंटों planning करते हैं … .. बतात....
Interviews
श्री संजीव लाठिया
श्री संजीव लाठिया
इण्डिया ITME सोसाइटी के चेयरमैन - GTTES
GTTES - 20154 टेक्सटाइल मशीनरी उद्योग के लिए संभावनाओं का द्वार

मुम्बई गत 20 जनवरी से 22 जनवरी, 2015 तक मुम्बई के एग्जिक्यूटिव सेण्टर गोरेगांव में Globle Textile Technology abd Engineering Show -2015 (GTTES - 2015) आयोजित की जा रही है।
इसमें विश्वभर से उत्पादित टेक्सटाइल मशीनरी एवं टेक्नोलॉजी का डिस्प्ले किया गया। इण्डिया ITME सोसाइटी के चेयरमैन श्री संजीव लाठिया ने यह जानकारी दी।
उन्होंने बताया कि मॉडर्न टेक्नोलॉजी को भारत लाने के उद्देश्य से 34 वर्ष पूर्व ITME सोसायटी का श्रीगणेश हुआ था। इसने टेक्सटाइल उद्योग के विकास में एक उत्प्रेरक का कार्य किया है। ITME सोसायटी ने सफलता पूर्वक अपने काम को अंजाम दिया है। इस वर्ष इस संस्था ने नये बाजारों तक पहुँच बनाने के लिए नयी चुनौती को स्वीकार किया है।
GTTES एशियन बाजार तथा टेक्सटाइल मशीनरी एक्सेसरीज, स्पेयर पार्ट्स रॉ-मेटेरियल्स तथा सम्बद्ध सेवा आदि का एक व्यापक (एक्सक्लूसिव) शो है जिसे ITME सोसयाटी ने आयोजित किया है।
श्री लाठिया ने बताया कि इस विशेष प्रदर्शनी के कई उद्देश्य हैं। यह टेक्नॉलोजी एवं मशीनरी की प्रदर्शनी के साथ ही उच्च क्वालिटी, वैरायटी, एलायड सर्विसेज की प्रदर्शनी भी है। यह छोटे और मध्यम एंटरप्राइजेज वाले क्लाइंट की बड़ी मदद करेगा।
उन्होंने कहा कि यह प्रदर्शनी महज एक प्रदर्शनी नहीं है। यह बिजनेस आदि को एक माहौल भी प्रदान करेगा। बेहतर नेटवर्किंग की बदौलत यह सेल और सर्विस की क्वालिटी भी उन्नत करेगा। यह व्यक्तिगत अंत:क्रिया के माध्यम से कस्टमर्स संबंधों को प्रगाढ़ करेगा। यह ओवरसीज, रिजनल, डोमेस्टिक बाजारों में नई लीडरशिप भी डवलप करेगा तथा यह छोटे और मध्यम क्लाइंट बेस तक पहुँचेगा।

GTTES 2015 का महत्व - एशिया में उपलब्ध संभावनाओं की तरफ विश्व की नजर खीचनें के उद्देश्य से ये प्रयास जारी है।

आज एशिया टेक्सटाइल मशीनरी का सबसे बडा बाजार एवं विश्व टेक्सटाइल उद्योग का केन्द्र है। आज एशियन बाजार को हाई परफोर्मेंस, हाई क्वालिटी, ऑटोमेशन की हाई डिग्री तथा इनर्जी सर्विस मशीनरी एवं इक्विपमेण्ट की निहायत जरूरत है।
इंटर एशिया टे्रड प्रेडिक्शन के अनुसार एशिया महादेश नये फेज में प्रवेश करने जा रहा है। 2015 तक इंटर- एशिया ट्रेड की मौजूदा 180 बिलियन यू एस डॉलर की तुलना में दुगुना होकर 350 बिलियन यूएस डॉलर के होने की संभावना है। तब यह निर्यातक देशों के लिए सबसे बड़ा मार्केट ब्लॉक बन जाएगा।
श्री संजीव लाठिया ने बताया कि 180 बिलियन यूएस डॉलर के वृहत इंट्रा एशिया-टे्रड के 8 प्रतिशत CAGR की दर से वृद्धि को देखते हुए, इंडिया ITME सोसायटी ITME सीरीज के साथ अलटरनेटली एक्जीबीशन लॉञ्च कर रही है।
श्री लाठिया ने कहा कि भविष्यवाणी की गयी है कि आगामी वर्षों में विश्व टेक्सटाइल उद्योग एवं टेक्सटाइल इंजिनीयरिंग उद्योग का केन्द्र एशिया होगा। विश्व का 70 प्रतिशत से अधिक फाइबर प्रोसेसिंग एशिया में होता है। चीन, भारत एवं पाकिस्तान संयुक्त रूप से 60 प्रतिशत फाइबर उपयोग में लाते हैं।
यह भी भविष्यवाणी की गयी है कि चीनी एवं भारतीय अपेरल-मार्केट का आकार अमेरिका एवं यूरोप के संयुक्त मार्केट आकार से बढऩे जा रहा है। टेक्सटाइल इंजिनीयरिंग एवं सेवा के लिए भविष्य में यह संभावनाओं का द्वार खोलेगा। बांग्लादेश एवं वियतनाम भी प्रतिस्पर्धी टेक्सटाइल देश के रूप में उभर रहे हैं।
टेक्सटाइल एवं अपेरल एक्सपोर्ट के एक शक्तिशाली टे्रड ब्लॉक के रूप में संभावनाओं का लाभ उठाने के लिए टेक्सटाइल उद्योग के लिए यह महत्वपूर्ण होगा कि एशियन-कंट्रीज में बिजनेस टाई-अप्स स्थापित किए जाय और इस बढ़ाया जाए।
इंडिया ITME सोसायटी के चेयरमैन श्री लाठिया ने बताया कि GTTES - 2015 की प्लानिंग एवं रुपरेखा इस तरह तैयार की गयी है ताकि यह एशियन-टेक्सटाइल मार्केट के लिए एक्सक्लूसिव एवं फोकस्ड बिजनेस इवेंट साबित हो।

श्री लाठिया ने कहा कि भारत के डोमेस्टिक कंजम्पशन एवं निर्यात के लिए भारतीय उत्पादन विश्व के औसत उत्पादन से आगे ग्रोथ के लिए तैयार है।
उन्होंने कहा कि 2025 तक उम्मीद है कि भारतीय डोमेस्टिक अपेरल कंजम्पशन बढ़कर 200 बिलियन यूएस डॉलर हो जाएगी, जो विश्व के कई बड़े कन्ज्यूमर्स जैसे जापान, ब्राजील, रूस आदि से ज्यादा है। 2025 में 2012 के 45 बिलियन यूएस डॉलर का 4 गुणा बढ़ा जाएगी।
उन्होंने कहा कि भारत अपेरल, हैडीक्राफ्ट और कुछ अन्य उद्योगों के लिए उभरता हुआ मल्स एवं रिटेल इंडस्ट्री एक व्यापक संभावना पैदा करता है। यह संभावना पूरे वैल्यूचेन तथा अन्य प्रॉडक्ट सेग्मेंट सभी के लिए होगा।

इसी के बीच से मशीनरी सप्लायर्स एवं इससे संबंद्ध व्यापार जैसे केमिकल्स कन्ज्यूमेबल्स, लॉजिस्टिक सभी के लिए व्यापक बाजार खुलेगा।
उन्होंने भारत सरकार को धन्यवाद देते हुए कहा कि इसमें टेक्नोलॉजी अपग्रेडेशन फंड स्कीम ने 1,51,000 करोड़ रुपयों की बदौलत मशीनरी सेक्टर को एक बड़ा सपोर्ट दिया है।
श्री लाठिया ने कहा कि इसमें अपना मार्केट शेयर बढ़ाने के लिए उत्पादकों एवं टे्रडरों को क्षेत्रीय बाजार एवं ग्रामीण बाजार पर ध्यान केंदित करना पड़ेगा। इसमें अपार अनएक्स्प्लोर्ड वर्जिन संभावनाएं दिखायी पड़ेगी, जिसका वे लाभ उठा सकेंगे।
जरुरत है सप्लाई चेन डवलप करने की, जो उभरती डोमेस्टिक बाजार को कैटर कर सके। साथ ही पड़ोसी एशियन देशों में भी कस्टमर्स ढुढऩे की जरूरत नहीं पड़ेगी।